Pitru Paksha 2022: पितृ पक्ष 10 September से शुरू, भूलकर भी ना करें ये गलतियां

Spread the Info

Pitru Paksha 2022 में मांगलिक कार्य ना करें : पितृ पक्ष को मान्यताओं में कड़े दिन कहते हैं. कोई भी मांगलिक कार्य करने की इन दिनों में मनाही है. इसलिए इन दिनों में आप आप कोई भी शुभ काम करने से बचें.

इन दिनों में नए कपड़े भी नही खरीदें, बाल नही कटवाएं :  मान्यताओं के अनुसार, कड़े दिनों में पुरुषों को दाढ़ी और बाल नहीं कटाने चाहिए. अगर ऐसा करते है तो पूर्वज नाराज हो जाते हैं. 

खुशबू वाली चीजें नही लगाने चाहिए : रोजमर्रा में परफ्यूम या सेंट कई लोग लगाते हैं लेकिन पितृ पक्ष में सेंट, इत्र या परफ्यूम ना लगाऐ।तामसी भोजन से बचें : मांसाहार भोजन से बचे और  सात्विक भोजन ही करे. कुछ मान्यता यह भी हैं कि पितृ पक्ष में बाहर का खाना नहीं खाया जाता है।आखिरी दिन करें श्राद्ध: पुराणों के अनुसार पितृ पक्ष के आखिरी दिन यानी की आश्विन महीने की अमावस्या को सभी पूर्वजों का ध्यान करके पितरों का श्राद्ध करना चाहिए. ऐसी मान्यता है कि श्राद्ध से वे प्रसन्न होते हैं और आशीर्वाद देते हैं. 

Pitru Paksha 2022
pitru paksh 2022

Pitru Paksha 2022 श्राद्ध पूजा की सामग्री

जिस दिन श्राद्ध करना हो उसके पहले श्राद्ध पूजन के लिए इन चीजों को एकत्रित कर ले।

  1. रोली, 
  2. सिंदूर, 
  3. छोटी सुपारी, 
  4. कपूर, 
  5. हल्दी, 
  6. देसी घी, 
  7. रक्षा सूत्र, 
  8. चावल, 
  9. जनेऊ
  10. तुलसी पत्ता, 
  11. पान का पत्ता, 
  12. माचिस, शहद, 
  13. काला तिल, 
  14. जौ,  
  15. हवन सामग्री,
  16. रुई बत्ती, 
  17. अगरबत्ती, 
  18. गुड़, 
  19. मिट्टी का दीया, 
  20. दही, 
  21. जौ का आटा,
  22. गाय का दूध, 
  23. घी, 
  24. खीर, 
  25. गंगाजल, 
  26. खजूर, 
  27. केला,
  28. सफेद फूल, 
  29. उड़द, 
  30. स्वांक के चावल, 
  31. मूंग, 
  32. गन्ना.

Pratipada Shraddha 2022: पितृ पक्ष का समय भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा से शुरू हो जाता  है और आश्विन मास की अमावस्या तक रहता है. 

  • मांगलिक कार्य ना करें : पितृ पक्ष को मान्यताओं में कड़े दिन कहते हैं. कोई भी मांगलिक कार्य करने की इन दिनों में मनाही है. इसलिए इन दिनों में आप आप कोई भी शुभ काम करने से बचें. इन दिनों में नए कपड़े भी नही खरीदें
  • बाल नही कटवाएं :  मान्यताओं के अनुसार, कड़े दिनों में पुरुषों को दाढ़ी और बाल नहीं कटाने चाहिए. अगर ऐसा करते है तो पूर्वज नाराज हो जाते हैं. 
  • खुशबू वाली चीजें नही लगाने चाहिए : रोजमर्रा में परफ्यूम या सेंट कई लोग लगाते हैं लेकिन पितृ पक्ष में सेंट, इत्र या परफ्यूम ना लगाऐ।
  • तामसी भोजन से बचें : मांसाहार भोजन से बचे और  सात्विक भोजन ही करे. कुछ मान्यता यह भी हैं कि पितृ पक्ष में बाहर का खाना नहीं खाया जाता है।
  • आखिरी दिन करें श्राद्ध: पुराणों के अनुसार पितृ पक्ष के आखिरी दिन यानी की आश्विन महीने की अमावस्या को सभी पूर्वजों का ध्यान करके पितरों का श्राद्ध करना चाहिए. ऐसी मान्यता है कि श्राद्ध से वे प्रसन्न होते हैं और आशीर्वाद देते हैं. 

पितृपक्ष का मुहूर्त (Pitru Paksha 2022 Muhurt)

Pitru Paksha 2022 पितृपक्ष का शुभ समय कुतुप मुहूर्त और रोहिना मुहूर्त है. इन दोनों शुभ मुहूर्त के बाद काल समाप्त होने तक भी मुहूर्त चलता रहता है. श्राद्ध के अंत में तर्पण किया जाता है जिसमें सूर्य की तरफ मुख करके घास की कुश (डाव) से दिया जाता हैं 

कुतुप मुहूर्त 2022 (Kutup Muhurat 2022) – दोपहर 12:11 PM बजे से दोपहर 01:00 PM बजे तक, अवधि: 49 मिनट

रोहिना मुहूर्त 2022 (Rohina Muhurat 2022) – दोपहर 01:00 PM बजे से दोपहर 01:49 PM बजे तक, अवधि: 49 मिनट 

अपराह्न मुहूर्त 2022 (Aparahna Muhurat 2022)- 01:49 PM अपराह्न से 04:17 PM अपराह्न, अवधि: 02 घंटे 28 मिनट

आखिरी दिन करें श्राद्ध: पुराणों के अनुसार पितृ पक्ष के आखिरी दिन यानी की आश्विन महीने की अमावस्या को सभी पूर्वजों का ध्यान करके पितरों का श्राद्ध करना चाहिए. ऐसी मान्यता है कि श्राद्ध से वे प्रसन्न होते हैं और आशीर्वाद देते हैं. 

Disclaimer: यहां दी गयी जानकारी सिर्फ मान्यताओं पर आधारित है. यहां nationalcareerservice.in किसी भी तरह की मान्यता की पुष्टि नहीं करता. किसी को अमल में लाने से पहले संबंधित क्षेत्र के विशेषज्ञ से सलाह तथा जानकारी अवश्य ले लें.

Also Read,

Credit : Google


Spread the Info

Leave a Comment