पितृ पक्ष को मान्यताओं में कड़े दिन कहते हैं. कोई भी मांगलिक कार्य करने की इन दिनों में मनाही है. इसलिए इन दिनों में आप आप कोई भी शुभ काम करने से बचें.

इन दिनों में नए कपड़े भी नही खरीदें, बाल नही कटवाएं :  मान्यताओं के अनुसार, रोजमर्रा में परफ्यूम या सेंट कई लोग लगाते हैं लेकिन पितृ पक्ष में सेंट, इत्र या परफ्यूम ना लगाऐ।

श्राद्ध पूजा की सामग्री

11. पान का पत्ता, 12. माचिस, शहद, 13. काला तिल, 14. जौ, 15. हवन सामग्री, रुई बत्ती,

Arrow

श्राद्ध पूजा की सामग्री

1. रोली, 2. सिंदूर, 3. छोटी सुपारी, 4. कपूर, 5. हल्दी, 6. देसी घी, 7. रक्षा सूत्र, 8. चावल, 9. जनेऊ 10. तुलसी पत्ता,

Arrow

1. अगरबत्ती, 2. गुड़, 3. मिट्टी का दीया, 4. दही, 5. जौ का आटा, 6. गाय का दूध, 7. घी, 8. खीर, 9. गंगाजल, 10. खजूर, 11. केला, 12. सफेद फूल, 13. उड़द, 14. स्वांक के चावल, 15. मूंग, 16. गन्ना.

No. 3

Pratipada Shraddha 2022: पितृ पक्ष का समय भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा से शुरू हो जाता  है और आश्विन मास की अमावस्या तक रहता है.

Floral Pattern
Floral Pattern

– खुशबू वाली चीजें नही लगाने चाहिए : रोजमर्रा में परफ्यूम या सेंट कई लोग लगाते हैं लेकिन पितृ पक्ष में सेंट, इत्र या परफ्यूम ना लगाऐ।

– तामसी भोजन से बचें : मांसाहार भोजन से बचे और  सात्विक भोजन ही करे. कुछ मान्यता यह भी हैं कि पितृ पक्ष में बाहर का खाना नहीं खाया जाता है।

आखिरी दिन करें श्राद्ध: पुराणों के अनुसार पितृ पक्ष के आखिरी दिन यानी की आश्विन महीने की अमावस्या को सभी पूर्वजों का ध्यान करके पितरों का श्राद्ध करना चाहिए.

Flight Path

ऐसी मान्यता है कि श्राद्ध से वे प्रसन्न होते हैं और आशीर्वाद देते हैं.

पितृ पक्ष में बाहर का खाना नहीं खाया जाता है।

For  More  Subscribe US 

Cross

For all other type of article please visit our site and have more useful content, suggest us for more better content

More

पितृपक्ष का मुहूर्त (Pitru Paksha 2022 Muhurt)

Arrow

शुभ समय कुतुप मुहूर्त और रोहिना मुहूर्त है. इन दोनों शुभ मुहूर्त के बाद काल समाप्त होने तक भी मुहूर्त चलता रहता है